शौचालयों की कमी हमारे देश में एक प्रमुख मुद्दा है। मार्ता वैंड्यूज़र स्नो इस क्षेत्र में बदलाव लाना चाहती हैं।अमेरिका की 35 वर्षीय इस महिला ने हमारे देश के स्वच्छता के मुद्दे को हल करने के लिए ‘बैटर विलेज बैटर वर्ल्ड इन इंडिया’ की शुरुआत की है। इस प्रोजेक्ट का लक्ष्य उत्तर प्रदेश के सभी गांवों में शौचालयों का निर्माण करना है।

भारत की पहली यात्रा

भारत की अपनी पहली यात्रा को याद करते हुए, मार्ता ने शीदपीपल.टीवी को बताया कि वह 2004 में इंडिया आई थी और जो उन्हें उस वक़्त पता लगा उससे उनके होश ही उड़ गए।

“भारत के कुछ महान लोगों से कुछ भी सीख पाना मेरे लिए सम्मान की बात थी। कई सालों बाद, जब मुझे ये ज्ञात हुआ कि मैं कुछ करना चाहती हूँ तो मैंने सोचा कि भारत इसके लिए सबसे सही स्थान होगा। मैं 2012 से यहाँ रह रही हूँ,” उन्होंने बताया। भारत से पहले, वह एक दशक तक न्यूयॉर्क शहर में रह रही थीं।

उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि अपनी युवावस्था में उन्होंने अमर्त्या सेन की ‘डेवलपमेंट एज़ फ्रीडम’ पढ़ी थी। इसका उन पर बहुत प्रभाव पड़ा था और तब से, वह सेन की थीसिस की डिमांड के बारे में सोच रही हैं।

पढ़िए : देवयानी खरबंदा बेकार फैब्रिक को शादी में पहनने वाले ईको-फ्रेंडली कपड़ों में बदलती है

“चार साल पहले, हमने उत्तर प्रदेश के जगतपुर नामक एक गाँव का सर्वे किया, और हर घर जाकर पूछा कि वे अपने घरों और मोहल्ले के लिए क्या चाहते हैं और लगभग सभी लोगों ने जवाब दिया कि उन्हें शौचालय चाहिए। इसी तरह मैंने शौचालयों पर काम करना शुरू कर दिया,” वह अपनी यात्रा की शुरुआत के बारे में बताते हुए कहती हैं।

“अभी के लिए, मैं अपना सिर झुकाकर और ध्यान केंद्रित करके, एक दिन में एक काम करके, उसे सर्वोत्तम ढंग से करने का प्रयास करती हूँ।”

विकास संबंधी कार्य

हमें अपने काम के बारे में एक अंतर्दृष्टि देते हुए उन्होंने कहा, “हम शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और इंफ्रास्ट्रक्चर जैसे  क्षेत्रों में काम करते हैं – ऑर्गेनिक फार्मिंग, पानी, बिजली और ट्रांसपोर्ट। मुझे उन तरीकों में दिलचस्पी है जैसे ये तीन क्षेत्र आपस में ओवरलैप होते हैं।”

उन्होंने यह भी कहा कि इन पिछले वर्षों में उत्तर प्रदेश के छह गांवों में, उन्होंने 140 से अधिक इवैपोट्रांस्पिरेशन शौचालय बनाए, भारत की पहली पारगम्य सड़कों में से एक, धीमी गति से रेत वाला पीने के पानी का फिल्टर, सोलर पावर वाले घर, साथ ही कई अन्य प्रोजेक्ट्स भी किए।”

पढ़िए : मेरी कैंसर जर्नी- मेरा खुद से मिलन, कहती हैं पारुल बांका

सामाजिक कार्य के प्रति झुकाव

मार्ता को अपना काम बेहद संतोषजनक लगता है। “ऐसी अच्छी चीज़ें बनाना जो रोज़ लोगों के काम आए मेरे जीवन के सबसे रोमांचक और पुरस्कृत अनुभवों में से एक है। इस सेवा के माध्यम से मुझे जो महसूस होता है उसका मुकाबला कोई डिग्री, पुस्तक या और कोई भी चीज़ नहीं कर सकती।” वह बताती हैं.

यात्रा के उच्चतम चरण पर

“पहली बार घर में एक शौचालय होने से 140 से अधिक घरों में बड़ा अंतर आया, विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों के बीच,” उन्होंने हमें अपनी जर्नी के विशेष पलों के बारे में बताते हुए कहा।

कठिनाइयों से लड़ने की रणनीतियां

हालाँकि ऊँचाइयों ने उन्हें अपने मिशन की तरफ आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया, तो दूसरी ओर मुश्किलों ने उन्हें अपनी उँगलियों पर नचाया। मगर समय के साथ, उन्होंने रणनीतियों के द्वारा समस्याओं से निपटना सीख लिया।

पढ़िए : विद्या देशपांडे – एन्त्रेप्रेंयूर बनीं जर्नलिस्ट जो महिलाओं को जगह जगह ले जा रही हैं

“अभी के लिए, मैं अपना सिर झुकाकर और ध्यान केंद्रित होकर, एक दिन में एक काम करके, उसे सर्वोत्तम ढंग से करने का प्रयास करती हूँ।” वह हमें बताती हैं.

अन्य संगठनों से सहायता

मार्ता खुद को भाग्यशाली महसूस करती हैं कि बहुत सारे लोगों ने उनके इस इरादे को समर्थन देते हुए उनका साथ दिया है।

“2016 में, हमने दो जनसंपर्क अभियान चलाए और इन प्रोजेक्ट्स के लिए लगभग 8 लाख रुपये जुटाए। हमने सोचा कि जनसम्पर्क एकदम सही ज़रिया रहेगा। जनसंपर्क का सबसे बड़ा अंश है अवेयरनेस पैदा करना। समुदाय ने इन प्रोजेक्ट्स को अपना समय, ज़मीन और भी कई योगदानों के ज़रिए समर्थन दिया है,” उन्होंने विस्तार से बताते हुए कहा कि, कई कंपनियों ने सेवाओं के रूप में अपना समर्थन प्रदान किया है।

वह कला, स्ट्रीट थियेटर और ग्राफिटी का उपयोग करके स्वच्छता की आवश्यकता के बारे में जागरुकता पैदा करती हैं।

भविष्य योजनाएं

भविष्य में, वह अन्य संगठनों के साथ इसी दिशा में काम करके, उनके सहयोग से अपने काम को राज्य स्तर पर ले जाना चाहती हैं।

पढ़िए : मिलिए बोइंग ७७७ की सबसे युवा महिला कमांडर ऐनी दिव्या से

Get the best of SheThePeople delivered to your inbox - subscribe to Our Power Breakfast Newsletter. Follow us on Twitter , Instagram , Facebook and on YouTube, and stay in the know of women who are standing up, speaking out, and leading change.