शादियां भारत में एक त्योहार के समान हैं. असाधारण मात्रा में खर्च, स्वादिष्ट भोजन और क्या नहीं! परन्तु ग्रामीण इलाकों में ऐसे बहुत से परिवार हैं जहाँ बेटियों की शादी एक आर्थिक बोझ के समान है. तो इसलिए जब राधिका जो एक विधवा हैं, उनकी बेटी की शादी तय हुई तो वह बहुत चिंतित हों गयी. वह एक अच्छी शादी की पोशाक के लिए भुगतान करने के बारे में सोच भी नहीं सकती थी. दिल्ली स्थित गैर-सरकारी संगठन ‘गूँज’ तब उनकी सहायता के लिए आया था और ‘वेडिंग किट’ की व्यवस्था करने के आर्थिक बोझ को ध्यान में रखते हुए जिम्मेदारी संभाली.

Goonj - wedding kit
                             गूँज – वेडिंग किट

गूँज के पास “माता की चुन्नी” को रीसायकल करके शादी के पौशाक उन परिवारों को सस्ते दामों में देते थे.

पढ़िए : स्मार्टफोन युग में मातृत्व के विषय में बात करती हैं नताशा बधवार

वैसे तो शादियां दो परिवारों और दो व्यक्तियों के मिलान की ख़ुशी में मनाई जाती हैं परन्तु ग्रामीण भारत की बहुत से परिवार ऐसे हैं जिनके लिए शादी एक आर्थिक बोझ साबित होती है.

एक विशिष्ट वेडिंग किट में दुल्हन और दुल्हें के सामान्य कपड़े, जूते, बटुआ, मेकअप बॉक्स, सौंदर्य प्रसाधन, आभूषण, चादरें, बर्तन आदि का सेट शामिल होता है.

Goonj - wedding kit
गूँज – वेडिंग किट

निश्चित रूप से, यह पहल एक उत्कृष्ट उदाहरण है कि छोटी चीजें एक बड़ा अंतर कैसे ला सकती हैं। गुप्ता ने बताया की उन्होंने पूरी व्यवस्था कैसे की. उन्होंने कहा, “हम शहरों से शादी के परिधान इकट्ठा करते हैं, ध्यान से उन्हें सुलझाते हैं और फिर इकट्ठे हुए सामग्री को संशोधित करके नए, कढ़ाई के कपड़े एकत्र करते हैं। स्वयंसेवकों और स्थानीय पंचायत के माध्यम से प्राप्तकर्ताओं को उनकी आर्थिक स्थिति के आधार पर चुना जाता है। एक बार जब कोई परिवार शादी के कपड़े का इस्तेमाल करता है, तो हम सुझाव देते हैं कि वे इसे अपने समुदाय में दूसरों के पास भेज देते हैं जिनके लिए उन्हें भी जरूरत है। ”

पढ़िए : मिलिए आंड्ररा तंशिरीन से – हॉकी विलेज की संस्थापक

गुप्ता ने रीना का उदाहरण दिया, जो अपने माता-पिता और तीन भाई बहनों के साथ उत्तराखंड के उत्तरकाशी में सियाना गांव में रहता है। उसके माता-पिता कृषि मजदूर हैं। इसलिए जब रीना की शादी तय हुई, तब वे इस अवसर के लिए धन की व्यवस्था करने के लिए संघर्ष करते थे। अनेक युवतियों की तरह, रीना को भी उसकी शादी के लिए बहुत सपने देखे थे। जब गूँज ने बोझ को कम करने की पेशकश की तो रीना का परिवार बहुत खुश हुआ.

रीना ने कहा, “मेरे माता-पिता बाजार से लेहेंगा और दूसरे दुल्हन के सामान किराए पर लेने में बड़ी रकम खर्च करते। गूँज की वेडिंग किट के लिए धन्यवाद, अब उन्हें ऐसा करना नहीं होगा और बाजार में कोई लेहेंगा इतना सुन्दर नहीं होता जैसा उन्हें किट में मिला हों.

लोगों के लिए इसे और अधिक आरामदायक बनाने के लिए, गूँज ने ‘पंडाल किट’ शुरू करने का विचार भी किया जहाँ लहंगे के साथ-साथ बर्तन, कंबल, दाटियां आदि जैसे चीज़ें हों.यह न केवल गांव के लिए एक सुविधाजनक व्यवस्था है बल्कि शादी पर खर्च भी काफी हद तक कम हो जाता है.

पढ़िए : बेटियों को बचाने के लिए जागरूकता फैलाती हैं डॉ हर्षिंदर कौर

वेडिंग किट धन की बर्बादी से परिवारों को तो बचा रहे हैं लेकिन इसका एक पर्यावरणीय लाभ भी है। गुप्ता के मुताबिक, ” नदियों में ‘माता की चुन्नी’ फेंकने से रोकने के लिए यह एक विकल्प है जो परिणामस्वरूप पर्यावरण को प्रदूषित करता है। एक बार जब कोई परिवार शादी के कपड़े का उपयोग करता है, तो हम सुझाव देते हैं कि वे इसे उन लोगों को दे दे जिनको इनकी ज़रुरत है.”

गूँज सैकड़ों शादी की किट देश के विभिन्न हिस्सों में जरूरतमंद परिवारों तक पहुंचता है.हम इस तरह के महान काम के लिए इस संगठन को सलाम देते हैं।

पढ़िए : प्राची कागज़ी का वेंचर आपको और आपके बच्चों को एक साथ ट्रेवल करने का अवसर देता है

Get the best of SheThePeople delivered to your inbox - subscribe to Our Power Breakfast Newsletter. Follow us on Twitter , Instagram , Facebook and on YouTube, and stay in the know of women who are standing up, speaking out, and leading change.