#टॉप-विडियोज़

मिलिए आंड्ररा तंशिरीन से – हॉकी विलेज की संस्थापक

post image

मिलिए आंड्ररा तंशिरीन से – जिन्होने भारत में थ्री गाओं में बचों के लिए हॉकी कोचैंग शुरू की है. आंड्ररा जर्मनी की वासी है और हॉकी प्रोफेशनल रह चुकी है. बर्लिन हॉकी क्लब के लिए वह खेलती थी. एक चोट के वजह से उन्होने हॉकी खेल बंद किया और भारत में आ पहुँची. आंड्ररा के घर में स्पोर्ट का काफ़ी प्रभाव रहा. इनके दादाजी फेन्सिंग का खेल खेलते थे और माता पिता वोल्ली बॉल. हॉकी बंद करने के बाद वह एशिया में ट्रॅवेल एजेन्सी में काम करने लगी और उन्हे भारत आने का मौका मिला.

ट्रॅवेल एजेन्सी के साथ साथ यह हॉकी में फिर शामिल हुई लेकिन इस बार सीखने के लिए. भारत, इंडोनेषिया जैसे देशो में छोटे बचों को हॉकी सिखाया और टूर्नमेंट किए. ऐसे एक ट्रिप के दौरान आंड्ररा को लगा क्यों ना गाओं में हॉकी सिखाई जाए.

इसी तरह सिलसिला शुरू हुआ हॉकी विलेज इंडिया का. फिल हाल आंड्ररा थ्री विलेजस में कोचैंग करती हैं. राजस्थान में, मुंबई का बाहर महाराष्ट्रा में और एक गोआ में.

वह कहती है की सबसे बड़ी चुनोती पैसे की है क्योंकि गाओं वासी और गाओं के अमीर लोग हॉकी खेने के लिए पैसे नही देते. फिल हाल वह जर्मनी से पैसे जुटाती है

 

post image
मिलिए आंड्ररा तंशिरीन से – हॉकी विलेज की संस्थापक
post image
पानी के लिए 4 km चलना पढ़ता है
post image
सा रे जहाँ से अछा – एक नये रूप में, देश की महीलाओं के संग
post image
उद्यमशीलता की कहानी: तीन संस्थापकों का सफर