पिछले शुक्रवार आईएएस ऑफिसर की बेटी वर्णिका कुंडू ने शिकायत की कि विकास बरला जो हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बरला के बेटे हैं और उनके दोस्त आशीष कुमार ने चंडीगढ़ की सड़कों पर उन्हें स्टॉक किया. घटना के समय वह अपनी गाड़ी में घर जा रही थी.

वर्णिका और उनके पिता ने घटना की चर्चा फेसबुक पर भी की. उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में यह भी बताया कि विकास और आशीष ने शराब के नशे में गाड़ी को रोकने की भी कोशिश करी.

एक मीडिया चैनल से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि वह अपनी पहचान छुपाकर नहीं रखना चाहती क्योंकि उनके अनुसार उन्होंने कुछ ऐसा गलत नहीं किया है. उन्होंने यह भी कहा कि वह पूरे मामले को आगे तक लेकर जाना चाहेंगी और उन्हें इस बात की पूरी उम्मीद है कि पुलिस और सिस्टम उनकी सहायता करेगा.

पढ़िए : क्यों है भारत में इंटरनेट का उपयोग करने वाली महिलाओं की संख्या इतनी कम?

उन्होंने और भी ऐसी अन्य चीज़ें कहीं जिस पर हमें गर्व होना चाहिए.

“यदि किसी पुरुष की महिलाएं दोस्त होती हैं या वह पीता है या  सूरज ढलने के बाद बाहर होता है तो कोई उससे कोई सवाल नहीं पूछता.”

“यह घटना रात को ही इसलिए मेरी गलती है क्या पुरुष अपनी इच्छाएं रात को कंट्रोल नहीं कर सकते मुझ पर सवाल क्यों उठाए जा रहे हैं?  मुझ पर अटैक हुआ है परंतु उन पर कोई सवाल नहीं उठाया जा रहे.”

“कोई भी गलती इतनी लंबी नहीं चलती.  कोई भी गलती किलोमीटर्स तक नहीं जा सकती. किस लिए माफी मांग रहे हैं क्योंकि मैंने अपने आपको उनसे बचा लिया यदि मैं ऐसा ना करती तो वह किससे क्षमा मांगते?”

“मेरे परिवार के सदस्यों को पता था कि मैं कहां हूं. समाज को उनसे पूछना चाहिए कि वह आधी रात को क्या कर रहे थे ?समाज ने उनसे कुछ प्रश्न क्यों नहीं पूछे ? हमारे भारत में महिलाएं इन्हीं लोगों के कारण असुरक्षित हैं.”

“मैं भाग्यशाली हूं कि मैं एक आम आदमी की बेटी नहीं हूं. यदि ऐसा होता तो  मुझे इन्साफ कैसे मिलता ?”

चंडीगढ़ पुलिस को आख़िरकार सी.सी.टी.वी फुटेज मिल गयी है जिसमें साफ़ दिख रहा है कि विकास और आशीष कुमार अपनी एस.यू.वी में वर्णिका का पीछा कर रहे हैं.

वर्णिका को अभी भी न्याय नहीं मिला है.

पढ़िए : महिलाओं के लिए आर्थिक स्वतंत्रता क्यों है ज़रूरी?