अभिनेत्री सायानी गुप्ता पूरी तरह से स्वनिर्मित हैं। वह अपने परिवार की इच्छाओं के खिलाफ मुंबई गयी, और बॉलीवुड जैसी प्रतिस्पर्धी इंडस्ट्री में खुद के लिए एक जगह बनायीं। उनकी नवीनतम भूमिका अनुराग बासु की “जग्गा जासूस” में 14 साल की एक लड़की की है। बसु के साथ काम करना बहुत ही खास है, वह बताती हैं, क्योंकि वह एक निर्धारित स्क्रिप्ट के साथ काम नहीं करते, और उनकी भूमिका समय के साथ साथ बदलती जाती है.

आजकल सायानी अमेज़न के टीवी शो इनसाइड एज पर क्रिकेट एनालिस्ट का काम कर रही हैं. उनका “द हंगरी” नाम की आने वाली एक अंतराष्ट्रीय फिल्म में रोमांचक भूमिका है.

हम उनसे पिछले हफ्ते एक दोपहर एक समुद्रपार के अपार्टमेंट में मिले थे। “खुद को एक स्ट्रगलर कहने की ज़रूरत नहीं है”, वह हमें बताती है क्यूंकि यह शब्द बहुत नकारात्मक है. कुछ भी शुरू करने से पहले ही ये आपकी हिम्मत तोड़ देता है.

पढ़िए: जानिए किस प्रकार इशिरा मेहता लोगों को पौष्टिक भोजन करने के लिए कर रही हैं प्रेरित

गुप्ता सकारात्मकता और नियति में बहुत विश्वास रखती हैं – यदि आप एक फिल्म करने के लिए हैं तो आप ऐसा ही करेंगे, वह कहती हैं। क्या फिल्म इंडस्ट्री वास्तव में नए लोगों के लिए कठोर है, हम उनसे पूछते हैं? यदि आप एक महिला हैं, तो आप के साथ अब भी अपने पुरुष समकक्षों की तुलना में बेहतर बर्ताव किया जायेगा, वह कहती हैं। वह बताती हैं की ऑडिशंस देते समय बहुत से पुरुषों को यूं ही जाने के लिए बोल दिया था.

उनकी सफलता का क्षण तब आया जब उन्हें “मार्गारीटा विथ अ स्ट्रॉ” में एक हिस्सा दिया गया। थियेटर से लेकर टीवी से लेकर फिल्म तक की उनकी कई भूमिकाओं के बारे में बात करते हुए वह कहती हैं कि एक अभिनेता के रूप में आपको अपना सर्वश्रेष्ठ काम करना चाहिए और उसमें सच्चाई होनी चाहिए.

“यह सब अपने आप में विश्वास करने के बारे में है।”, वह कहती हैं. गुप्ता को पता था कि ऐसी इंडस्ट्री का हिस्सा बनने का अर्थ क्या होता है परन्तु उनके आत्म-विश्वास ने उन्हें आगे बढ़ाया था।

आजकल सायानी अमेज़न के टीवी शो इनसाइड एज पर क्रिकेट एनालिस्ट का काम कर रही हैं. उनका “द हंगरी” नाम की आने वाली एक अंतराष्ट्रीय फिल्म में रोमांचक भूमिका है. हम आशा करते हैं कि आने वाले वर्षों में हमें सायानी का और काम देखने को मिलेगा.

पढ़िए: मैं निराशाजनक लोगों को उम्मीद की एक किरण देना चाहती हूँ: ऐना चंडी